भारत का संविधान

"हम भारतवासी,गंभीरतापूर्वक यह निश्चय करके कि भारत को सार्वभौमिक,लोकतांत्रिक गणतंत्र बनाना है तथा अपने नागरिकों के लिए------- न्याय--सामाजिक,आर्थिक,तथा राजनैतिक ; स्वतन्त्रता--विचार,अभिव्यक्ति,विश्वास,आस्था,पूजा पद्दति अपनाने की; समानता--स्थिति व अवसर की व इसको सबमें बढ़ाने की; बंधुत्व--व्यक्ति की गरिमा एवं देश की एकता का आश्वासन देने वाला ; सुरक्षित करने के उद्देश्य से आज २६ नवम्बर १९४९ को संविधान-सभा में,इस संविधान को अंगीकृत ,पारित तथा स्वयम को प्रदत्त करते हैं ।"

Visitors

तुम्हारे बिखराए हुए शब्द....!!

मंगलवार, 18 नवंबर 2008




तुम्हारे बिखराए हुए शब्दों के कणों को चुन रहा था मैं...
जो जमी में बेतरतीब थे धूल से सने हुए.....
बड़े प्यार से मैंने उन्हें उठाया वहां से...
हल्का-हल्का झाडा-पोंछा उन्हें...
और थोड़ा थपथपाया...
तभी तो उनका रूप निखर-कर
ऐसा सामने आया......
जमीं पे जब देखा था उन्हें..
कुछ चमकती हुई-सी वस्तू-से लगे थे..
हाथ में जब लिया,तब लगा...
अरे ये तो मोती हैं...
फिर बाहर नहीं छोडा उन्हें...
दिल के भीतर रखकर घर ले आया...
और अब उनका दीदार कैसे कराऊँ...
वो तो अब मेरे मन को मथ रहे हैं...
वो अब मेरी रूह को जज्ब कर रहे हैं....!!
Share this article on :

8 टिप्‍पणियां:

Capricornearth ने कहा…

kya khoob likha hai aapne. Shabdon ko aap bhi chunte ho ?

www.creativekona.blogspot.com ने कहा…

Bhai bhootnath ji,
Ap mere blog par aye meree khush naseebee.Achchi rachana ke roop men tippanee,padh kar achcha laga.Apkee teenon kavitaon Tumhare bikharae...,Chintayen,Ek tha bachpan..ne kafee kuch sochane par majboor kar diya.Aur dil men uthal puthal to machanee hee thee.Bhai vo shbd hee kya jo andar tak na mar karen.Choonki bachchon ke liye man bhee kam kar raha hoon isliye
Bachpn ne jyda prabhavit kiya.Meree badhai aur shubhkamnaen.
Hemant Kumar

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

बहुत खूब कहा आपने... बधाई स्वीकारें..

bhoothnath ने कहा…

aap-sabon kaa prem paakar main abhibhut hun....

sandhyagupta ने कहा…

Bahut achcha likha hai aapne. Badhai.

jayaka ने कहा…

bahut hi sunder shabdon ka jaal buna hai aapane bhootnathji!...mere blog par upasthiti ke liye dhanyawad!

आदर्श राठौर ने कहा…

उम्दा रचना।
और वो प्लेबैक वाली प्रक्रिया थोड़ी जटिल है। यदि आपको भी वैसा करना है तो मैं आपके लिए भी खुद इस तरह का रिकॉर्ड करके उसका लिंक कोड आपको दे दूंगा। इसके लिए आप बस विषय वस्तु बता दें कि क्या कहना है.
संगीत सहित लगाउंगा।
धन्यवाद।

अनुपम अग्रवाल ने कहा…

शब्दों की रूह के ज़ज्बे का अहसास
ले आयी आप की रचना हमारे पास

 
© Copyright 2010-2011 बात पुरानी है !! All Rights Reserved.
Template Design by Sakshatkar.com | Published by Sakshatkartv.com | Powered by Sakshatkar.com.