भारत का संविधान

"हम भारतवासी,गंभीरतापूर्वक यह निश्चय करके कि भारत को सार्वभौमिक,लोकतांत्रिक गणतंत्र बनाना है तथा अपने नागरिकों के लिए------- न्याय--सामाजिक,आर्थिक,तथा राजनैतिक ; स्वतन्त्रता--विचार,अभिव्यक्ति,विश्वास,आस्था,पूजा पद्दति अपनाने की; समानता--स्थिति व अवसर की व इसको सबमें बढ़ाने की; बंधुत्व--व्यक्ति की गरिमा एवं देश की एकता का आश्वासन देने वाला ; सुरक्षित करने के उद्देश्य से आज २६ नवम्बर १९४९ को संविधान-सभा में,इस संविधान को अंगीकृत ,पारित तथा स्वयम को प्रदत्त करते हैं ।"

Visitors

यः आदमी इतना बदहाल क्यूँ है....??

बुधवार, 7 जनवरी 2009


गर खे रहा है नाव तू ऐ आदमी

गैर के हाथ यह पतवार क्यूँ है...?

तू अपनी मर्ज़ी का मालिक है गर

तिरे चारों तरफ़ यः बाज़ार क्यूँ है...??

हर कोई सभ्य है और बुद्धिमान भी

हर कोई प्यार का तलबगार क्यूँ है....??

इतनी ही शेखी है आदमियत की तो

इस कदर ज़मीर का व्यापार क्यूँ है....??

बाप रे कि खून इस कदर बिखरा हुआ...

ये आदमी इतना भी खूंखार क्यूँ है...??

हम जानवरों से बात नहीं करते "गाफिल"

आदमी इतना तंगदिल,और बदहाल क्यूँ है ??
Share this article on :

5 टिप्‍पणियां:

अल्पना वर्मा ने कहा…

baat sachchee hai.ye sawaal aksar sabhi ke dimagh mein ghumtey hi hongey.

बवाल ने कहा…

हम जानवरों से बात नहीं करते "गाफिल"
आदमी इतना तंगदिल,और बदहाल क्यूँ है ??

बड़ी बात कही गाफ़िल आपने. यक्ष प्रश्न है ये.

Amit ने कहा…

bahut sundar.....

JHAROKHA ने कहा…

Bhootnath ji,
Bahut achchhee rachnayen aj apne likhi hain.badhai.

गौतम राजरिशी ने कहा…

"तू अपनी मर्ज़ी का मालिक है गर / तिरे चारों तरफ़ यः बाज़ार क्यूँ है"
सुंदर है राजीव जी...

 
© Copyright 2010-2011 बात पुरानी है !! All Rights Reserved.
Template Design by Sakshatkar.com | Published by Sakshatkartv.com | Powered by Sakshatkar.com.