भारत का संविधान

"हम भारतवासी,गंभीरतापूर्वक यह निश्चय करके कि भारत को सार्वभौमिक,लोकतांत्रिक गणतंत्र बनाना है तथा अपने नागरिकों के लिए------- न्याय--सामाजिक,आर्थिक,तथा राजनैतिक ; स्वतन्त्रता--विचार,अभिव्यक्ति,विश्वास,आस्था,पूजा पद्दति अपनाने की; समानता--स्थिति व अवसर की व इसको सबमें बढ़ाने की; बंधुत्व--व्यक्ति की गरिमा एवं देश की एकता का आश्वासन देने वाला ; सुरक्षित करने के उद्देश्य से आज २६ नवम्बर १९४९ को संविधान-सभा में,इस संविधान को अंगीकृत ,पारित तथा स्वयम को प्रदत्त करते हैं ।"

Visitors

आसमान का रंग....!!

बुधवार, 10 दिसंबर 2008



अभी-अभी http://anjalianamika.blogspot.com/2008/11/blog-post_24.हटमल के ब्लॉग सफर पे एक पोस्ट देखी...जिसका सिर्फ़ शीर्षक था "आसमानी रंग" पोस्ट नहीं थी कोई.....मैंने आव ना देखा ताव...झटपट ये पोस्ट लिख डाली....अब साथी ही बताएँगे कि दिए गए शीर्षक के साथ यह चटपटी-सी पोस्ट कैसी है.....!!

हे भगवान आसमान का रंग भी नहीं जानते ..........नीला.........और क्या......!!
आसमान का रंग है नीला....
पानी की तरह है ये गीला !!
तारों की रंगत से तो ये हो...
जाता है और भी भड़कीला!!
सूरज की गर्मी से बिचारा
रहता है अक्सर पथरीला !!
आकाश-गंगाएं भी तो इसको
बनाती रहती हैं रंगीला !!
धरती का गरल पी-पी कर
शिव की तरह है ये नीला..!!
ऐ भूतनाथ तुझे क्या गरज
कि आसमां नीला हो या पीला !!
Share this article on :

7 टिप्‍पणियां:

प्रकाश बादल ने कहा…

vaah kyaa rang dikhayee hain

Mired Mirage ने कहा…

हाहाहा ! मुझे तो ये पंक्तियॉ बहुत पसन्द आईं …
ऐ भूतनाथ तुझे क्या गरज
कि आसमां नीला हो या पीला !!
बहुत बढिया लिखा है ।
घुघूती बासूती

seema gupta ने कहा…

ऐ भूतनाथ तुझे क्या गरज
कि आसमां नीला हो या पीला !!

"interesting.."

परमजीत बाली ने कहा…

ऐ भूतनाथ
तुझे क्या गरज
कि आसमां नीला हो या पीला !!

क्या बात है!!
बहुत बढिया लिखा है।

creativekona ने कहा…

BHIYA BHOOTNATH JI,
Asman peela ho,neela ho ya gusse se lal ho jaya,isase ap yni{bhooton}ko kya fark padega?
pareshn to ham dhartee vale honge.Achchhee rachna ke liye badhai.

मोहन वशिष्‍ठ ने कहा…

अच्‍छी कविता रच दी आपने गजब के रंग दिखाए ढंग से

bhoothnath ने कहा…

आप सबके इतने प्रेम से भूतनाथ इतना अभिभूत हुआ जा रहा है...कि वापस धरती पर आना चाहता है...मेरी गुजरी हुई दुनिया के दोस्तों आप-सबको भूतनाथ का सलाम....और हाँ प्यार भी तो....सच.....!!

 
© Copyright 2010-2011 बात पुरानी है !! All Rights Reserved.
Template Design by Sakshatkar.com | Published by Sakshatkartv.com | Powered by Sakshatkar.com.