भारत का संविधान

"हम भारतवासी,गंभीरतापूर्वक यह निश्चय करके कि भारत को सार्वभौमिक,लोकतांत्रिक गणतंत्र बनाना है तथा अपने नागरिकों के लिए------- न्याय--सामाजिक,आर्थिक,तथा राजनैतिक ; स्वतन्त्रता--विचार,अभिव्यक्ति,विश्वास,आस्था,पूजा पद्दति अपनाने की; समानता--स्थिति व अवसर की व इसको सबमें बढ़ाने की; बंधुत्व--व्यक्ति की गरिमा एवं देश की एकता का आश्वासन देने वाला ; सुरक्षित करने के उद्देश्य से आज २६ नवम्बर १९४९ को संविधान-सभा में,इस संविधान को अंगीकृत ,पारित तथा स्वयम को प्रदत्त करते हैं ।"

Visitors

रात भर मैं पागलों की तरह कुछ सोचता रहा...!!

शनिवार, 13 दिसंबर 2008










प्यार से गले लगाया जब सिसकती मिली रात....
पास जब उसके गया तब सिमटती मिली रात...!!
रात जब आँखे खुलीं उफ़ तनहा-सी बैठी थी रात...
साँस से जब साँसे मिलीं तो लिपटती मिली रात !!
रात को जब कायनात भी थक-थकाकर सो गई
रात भर भागती फिरी बावली जगमगाती रात !!
रात को इक कोने में मुझको गमगीं-सा पाकर
सकपकाकर रोने लगी यकायक कसमसाती रात !!
मैं दिखाता उसे नूर-ऐ-सबा,सौगाते-सुबह की झलक
सुबह से पहले ही मगर सो गई वो चमचमाती रात
रात जब रात का मन ना लगा तब यूँ "गाफिल"
की पेट में गुदगुदी तो हंसने लगी मदमदाती रात !!



Share this article on :

8 टिप्‍पणियां:

वर्षा ने कहा…

सुबह हो गई मामू

अल्पना वर्मा ने कहा…

bahut khuub!

BrijmohanShrivastava ने कहा…

भूतनाथ जी मज़ा आगया सचमुच /प्यार माँगा तो सिसकते हुए अरमान मिले ,चैन चाहा तो उमड़ते हुए तूफ़ान मिले ""/रात जब रात का मन न लगा"" पर, में आपके पास होता तो कसम से आपके हाथ चूम लेता और मुझको दुखी पाकर रोने लगी रात पर आपके चरण छू लेता /मैंने इसे नोट करली है आप की ये गजल दिमाग से नहीं दिल से पढी है

''ANYONAASTI '' ने कहा…

सिसकियाँ दूर तक सुनी जाती हैं विरानो में ,
श्श्श्श....रात को अपनी ये खामोशी जीने दो !

बढ़िया है...बढ़िया है.....!!से काम नही चलेगा विचारणीय विषय पर सार्थक बहस उठाई है जारी रखें ,समाज का हित भी इसी में है ,वरना मेरी कही बात '' पता नही हमारे महान देश भारतवर्ष के तथाकथित महान प्रबुद्ध लोग "धर्म" शब्द से इतना डरते क्यों हैं ?" को ही सिद्ध करेंगे!!! चौपाल आगमन का आभारी हूँ

गौतम राजरिशी ने कहा…

बड़े दिनों बाद आया हूं आपके ब्लौग पर और मुँह से निकला "वाह"

एक सुंदर रचना के लिये बधाई

mehek ने कहा…

waah dil khush ho gaya,bahut sundar rachana badhai

jayaka ने कहा…

Bhootnathji!... raat ab pehale waali kaali-raat nahi rahi!...to din ke ujaale mein bhi nikalaa karo to baat bane!.... kavita ka aanand anubhav kar rahe hai hum!

Rohit Tripathi ने कहा…

badiya hai.. bahut acha hai :-)

New post - एहसास अनजाना सा.....

 
© Copyright 2010-2011 बात पुरानी है !! All Rights Reserved.
Template Design by Sakshatkar.com | Published by Sakshatkartv.com | Powered by Sakshatkar.com.