भारत का संविधान

"हम भारतवासी,गंभीरतापूर्वक यह निश्चय करके कि भारत को सार्वभौमिक,लोकतांत्रिक गणतंत्र बनाना है तथा अपने नागरिकों के लिए------- न्याय--सामाजिक,आर्थिक,तथा राजनैतिक ; स्वतन्त्रता--विचार,अभिव्यक्ति,विश्वास,आस्था,पूजा पद्दति अपनाने की; समानता--स्थिति व अवसर की व इसको सबमें बढ़ाने की; बंधुत्व--व्यक्ति की गरिमा एवं देश की एकता का आश्वासन देने वाला ; सुरक्षित करने के उद्देश्य से आज २६ नवम्बर १९४९ को संविधान-सभा में,इस संविधान को अंगीकृत ,पारित तथा स्वयम को प्रदत्त करते हैं ।"

Visitors

चिन्ताएं.......!!

शनिवार, 17 अप्रैल 2010

मैं भूत बोल रहा हूँ..........!!

चिन्ताएं !!
चिन्ताएं-एक लंबी यात्रा हैं-अन्तहीन,
चिन्ताएं-एक फ़ैला आकाश है असीम,
चिन्ताएं-हमारे होने का एक बोध हैं,
साथ ही हमारे अहंकार का एक प्रश्न भी !!
चिन्ताएं-कभी दूर ही नहीं होती हमसे,
अन्त-हीन हैं हमारी अबूझ चिन्ताएं,
जो हमारे कामों से ही शुरू होती हैं,
और हमारे कामों के बरअक्श वो-
हरी-भरी होती जाती हैं या फ़िर,
जलती-बूझती भी जाती हैं !!
एक काम खत्म तो दूसरा शुरू,
दूसरा खत्म तो तीसरा शुरू,
तीसरा………
हमारे काम कभी खत्म ही नहीं होते,
और उन्हीं की एवज में खरीद ली जाती हैं,
कभी ना खत्म होने वाली अन्त-हीन चिन्ताएं !!
चिन्ताएं-हमारी कैद हैं और हमारा फ़ैलाव भी,
चिन्ताएं-हमारा समाज हैं और हमारा एकान्त भी,
चिन्ताएं-कभी हमारा अमुल्य अह्सास हैं,
तो कभी जिन्दगी के लिए इक पिशाच भी !!
चिन्ताएं प्रश्न हैं तो कभी उनका उत्तर भी !!
हमारे बूते के बाहर होने वाली घट्नाओं पर-
हम कुछ कर भी नहीं सकते चिन्ता के सिवाय !!
और मज़ा यह है कि-
जिसे समझते हैं हम अपना खुद का किया हुआ-
होता है कोई और ही वो सब हमसे रहा करवा !!
जिसे माना हुआ है हमने अपना ही करना,
उसी से दौड़ी चली आ रही हैं हमारी चिन्ताएं !!
चिन्ताएं हमें जलाती भी हैं और बूझाती भी-

चिन्ताओं में यदि थोडा गहरा जायें अगर
तब जान सकते हैं हम अपने होने का वहम,
अपने अस्तित्व के प्रश्न की अनुपयोगिता,
और हमारी चिन्ताओं की असमर्थता !!
हमारे हाथ-पैर मारने की व्यर्थता
दरअसल….दूर आसमान में एक बडा सा खूंटा है-
जिसे कहते हम ईश्वर-
उस खूंटे से अगर हम
अपनी चिन्ताओं को बांध सकें-
आज़ाद हो सकते हैं-
अपनी ही चिन्ताओं के कैद्खाने से हम !!
Share this article on :

2 टिप्‍पणियां:

boletobindas ने कहा…

भूत बनकर भी समस्या से छुटकारा नहीं पाया जा सकता .... पता लग ही गया तो भूत क्यों बने भाई...कुछ कर सकते हैं वो है चिंता से बढ़कर लोगो की सेवा करना..पर सामर्थ्य कितनों का है ये अलग बात है..पर हक छीनने का सामर्थ्य कई लोगो में है....सो सोचो औऱ कुछ करो, अगर कर सको तो..भूत बनकर ही सही..क्यों भूत भाई.....

shephalika naik ने कहा…

hum manushuon ki khair thik hi hai, magar bhooton ko bhi chintaayen sataane lagin, is chinta ne to insaan or bhoot ka fark hi mita diya, aapko ko kya mila bhoot bnkar, insaani bhavanubhootioyon se to aap khud ko mukt kar nahi sake, manushya or bhoot ki yoni me to aapko santushti nahi mili, ab kisi or yoni ko aazmaaiye, shaayad maanveeya bhaavanubhootiyon ke pret se chhutkaara mil jaaye.........

 
© Copyright 2010-2011 बात पुरानी है !! All Rights Reserved.
Template Design by Sakshatkar.com | Published by Sakshatkartv.com | Powered by Sakshatkar.com.