भारत का संविधान

"हम भारतवासी,गंभीरतापूर्वक यह निश्चय करके कि भारत को सार्वभौमिक,लोकतांत्रिक गणतंत्र बनाना है तथा अपने नागरिकों के लिए------- न्याय--सामाजिक,आर्थिक,तथा राजनैतिक ; स्वतन्त्रता--विचार,अभिव्यक्ति,विश्वास,आस्था,पूजा पद्दति अपनाने की; समानता--स्थिति व अवसर की व इसको सबमें बढ़ाने की; बंधुत्व--व्यक्ति की गरिमा एवं देश की एकता का आश्वासन देने वाला ; सुरक्षित करने के उद्देश्य से आज २६ नवम्बर १९४९ को संविधान-सभा में,इस संविधान को अंगीकृत ,पारित तथा स्वयम को प्रदत्त करते हैं ।"

Visitors

चलो धूप से बात करें............

रविवार, 11 अप्रैल 2010

मैं भूत बोल रहा हूँ..........!!!

कभी-कभी यूँ भी हो जाता है कि कोई चीज़ पढ़कर दिल उतावला सा हो जाता है...आज अभी-अभी मेरे साथ ऐसा ही हुआ...कि इक छोटी सी हिंदी ग़ज़ल मैंने पढ़ी और दिल यूँ बाग़-बाग़ हो गया कि गर्मी के मौसम में जैसे इस बाग़ से मीठे-मीठे आम बस गिरने ही वाले हों..इस मीठी-सी ग़ज़ल को पढ़कर नहीं महसूस कर ऐसा ही लगा और अब इसे रज़िया जी की अनुमति के बगैर आपको अपने ब्लॉग पर ही पढवा रहा हूँ....आप दाद दो उनको,मुझे तो ऐसी खुजली हुई कि मैंने दाद-खुजली सब उनको दे डाली है....उनका लिंक और मेल भी साथ ही लिख रहा हूँ.. अब जिसकी चाहे जैसी मर्ज़ी....रज़िया जी आपको बुरा लगे तो मुआफ कर देना....अच्छा लगे तो भी मैं तो हूँ ही नहीं.....!!
Monday, April 5, 2010
चलो धूप से बात करें ` ` `
कुछ कारणो से लम्बे समय से ब्लागजगत से दूर रही. आज एक रचना के साथ लौट रही हूँ.



चलो धूप से बात करें

अब तो शुभ प्रभात करें

.


रिश्ता-रिश्ता स्पर्श करें

अब तो ना आघात करें

.


सुनियोजित करते ही हैं

कुछ तो अकस्मात करें

.


तेरे-मेरे अपने है-सपने

फिर किसका रक्तपात करें

.

नेह का प्यासा अंतर्मन

कोई नया सूत्रपात करें

Posted by Razia at 6:05 AM
Labels: ग़ज़ल

http://razia-unlimited-sky.blogspot.com/

kazmirazia@yahoo.com
और मेरे उतावले बावरे दिल ने यूँ उनपर अपना प्यार लुटाया....(नीचे देखिये ना...फिर....!!)

हर इक पंक्ति ने मिरे भीतर तक गहरा असर किया
उफ़ रज़िया ये तूने क्या लिख,दिया क्या लिख दिया !
उर्दू की वीणा पर मधुर एक तान सी क्या छेड़ दी
तेरे इस मीठे संगीत ने हिंदी का भी भला कर दिया !
अगर तू इसी तरह वापस लौटा करती है तो वापस जा
इस पछुआ की पवन ने दिल को हरा-भरा कर दिया !
जब भी पढ़े हैं हमने गाफिल किसी के प्यारे-प्यारे हर्फ़
भीतर से निकाल कर यूँ वां अपना दिल ही रख दिया !!
Share this article on :

5 टिप्‍पणियां:

Apanatva ने कहा…

bahut khoob .

usha rai ने कहा…

तेरे इस मीठे संगीत ने हिंदी का भी भला कर दिया !!!
अच्छी बाते लिखी है !भूतनाथ जी बधाई !

Babli ने कहा…

बहुत खूबसूरती से आपने प्रस्तुत किया है जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

Parul ने कहा…

bhootnath ji...nayi pahal hai..badhiya!

Parul ने कहा…

bhootnath ji...nayi pahal hai..badhiya!

 
© Copyright 2010-2011 बात पुरानी है !! All Rights Reserved.
Template Design by Sakshatkar.com | Published by Sakshatkartv.com | Powered by Sakshatkar.com.