भारत का संविधान

"हम भारतवासी,गंभीरतापूर्वक यह निश्चय करके कि भारत को सार्वभौमिक,लोकतांत्रिक गणतंत्र बनाना है तथा अपने नागरिकों के लिए------- न्याय--सामाजिक,आर्थिक,तथा राजनैतिक ; स्वतन्त्रता--विचार,अभिव्यक्ति,विश्वास,आस्था,पूजा पद्दति अपनाने की; समानता--स्थिति व अवसर की व इसको सबमें बढ़ाने की; बंधुत्व--व्यक्ति की गरिमा एवं देश की एकता का आश्वासन देने वाला ; सुरक्षित करने के उद्देश्य से आज २६ नवम्बर १९४९ को संविधान-सभा में,इस संविधान को अंगीकृत ,पारित तथा स्वयम को प्रदत्त करते हैं ।"

Visitors

हाँ,दुनिया इसी की तलाश में है.....!!

मंगलवार, 9 जून 2009

हाँ,दुनिया इसी की तलाश में है.....!!

मैं भूत बोल रहा हूँ..........!!
रोज-ब-रोज सूरज उग रहा है,रोज-ब-रोज रात हो रही है.आदमी के सम्मुख अँधेरा और उजाला दोनों ही हर वक्त होते हैं.मगर आदमी अँधेरे को ही पहले तरजीह देता है !!क्योंकि अँधेरे में ही उसकी समस्त वासनाओं का शमन होता है !!आदमी धीरे-धीरे एक ऐसी चीज़ में परिणत होता जा रहा है जो हर वक्त सिर्फ-व्-सिर्फ अपने और अपने स्वार्थ को येन-केन-प्रकारेण पूरा करने के बारे में सोचती रहती है.जीवन को भरा-पूरा बनाने के साधनों का एक ऐसा अंतहीन तिलिस्म आदमी ने अपने चारों तरफ फैला लिया है कि उनको प्राप्त करने की जद्दोजहद में उसकी कमर टूट जा रही है,और उसे अपनी जरूरतों से इतर कुछ भी सच पाने को कोई अवकाश ही नहीं है,और इस बारे में कुछ भी सोचने का प्रयास भी नहीं,तो इस तिलिस्म से बाहर आने के बारे में कुछ अपेक्षा करना भी बेमानी है !!
आदमी अपने-आप को सदा पशुओं से ऊपर बता रहा है,सिर्फ इस बुनियाद पर कि उसमें विवेक नाम की कोई चीज़ है,वो हँसता है,बोलता है,नाचता है और सबसे बढ़कर सोचता है !!और मज़ा यह कि इन्हीं बुनियादों पर वह पशु-जगत को अपने से दीन-हीन बतलाता रहा है और यहाँ तक कि उसने हर वक्त पशुओं को अपनी जरुरत तथा प्रयोगों का साधन बनाया हुआ है !!आदमी के हाथ में एक दुर्दमनीय पीडा से छटपटाते ये पशु कुछ बोल नहीं पाने के कारण आदमी नामक इस स्वनामधन्य विवेकशील जीव द्वारा मार दिए जाते हैं,मानवता की सेवा करने की आड़ में पशु-जगत आदमी के तमाम काले-कारनामों का शिकार बनता रहा है,बन रहा है !!और मज़ा यह कि आदमी विवेकशील है!!
प्रेम-मुहब्बत-भाईचारे की बात बहुत करता है यह आदमी...तुर्रा यह कि इसकी दुनिया में बाबा आदम के जमाने से अब तक भी ये चीज़ें इसे नसीब नहीं हो पायी हैं जबकि आदमी की सिर्फ एक ही जात है और वह है आदमी...!!और जिस जात को वह पशु मानता है वह धरती और गगन में असंख्य किस्म की होने के बावजूद आदमी से असंख्य गुणा प्रेम-मुहब्बत और भाईचारे के संग रहती है....!!आदमी अपनी एक-मात्र जात के बावजूद भी एक-दुसरे से कई-कई गुणा दूर है,यहाँ तक कि एक-दुसरे के विरुद्द एक अंतहीन नफरत से भरा हुआ और तमाम वक्त एक-दुसरे से लड़ता हुआ....लड़ता ही लड़ता हुआ !!और बाकी का पशु-पक्षी जगत अपनी अनगिनत रूपों की विभिन्नता के बावजूद एक-दुसरे के संग लगभग शालीनता से रहता हुआ,यहाँ के आदमी के लिए प्रेरणादायी होने तक !!
फिर भी आदमी जानवरों को लतियाता है,आदमी को भी लतियाता है,अपने बच्चों को लतियाता है,बड़े-बूढों को लतियाता है,स्त्रियों को लतियाता है,कमजोरों को लतियाता है,अपने से तमाम कमतर कहे जाने वाले लोगों को लतियाता है,हालांकि कमतर समझना उसका खुद का ही पैदा किया हुआ एक अनावश्यक विचार होता है....इस बारे में उसमें कई किस्म की बेजोड़ भ्रांतियां है,मज़ा यह कि जिन्हें वह तथ्य समझता हुआ उसी अनुसार आचरण करता है,बिना यह जाने हुए कि यह आचरण उसे अपने ही बनाए हुए आदमी होने के विशेषणों के उसे विलग करता है !!आदमी के साथ सबसे बड़ी तो दिक्कत ही यही है कि अपनी ही गडी हुई तमाम परिभाषाओं को अपने अनुकूल बनाने या साबित करने के लिए यह उन परिभाषाओं का दम खुद ही घोंट देता है,अपने ही गडे हुए शब्दों के अर्थ हजारों-हज़ार निकाल लेता है,यहाँ तक कि उसके शब्द अपनी ही महत्ता खो देते हैं,यहाँ तक कि उनका सही अर्थ भी हम नहीं समझ पाते,यहाँ तक कि आदमी कहना क्या चाहता है,उसे खुद ही नहीं पता होता....फिर भी आदमी,आदमी है,और समस्त पशु-जगत से कहीं ऊपर है...!!....नीचे के स्थान से कि ऊपर के स्थान से यह तय होना बाकी है !!
सच बताऊँ तो आदमी जरुरत से ज्यादा समझदार है,इतना ज्यादा कि इतने ज्यादा की जरुरत ही नहीं,इतना ज्यादा कि हास्यास्पद की हद तक,इतना ज्यादा कि ज्यादा होना आपकी राह में रोड़ा बनने लगे और हर समय एक अंतहीन पीडा देने लगे और दूसरों को ना जाने किन-किन आधारों पर छोटा या बड़ा समझने लगे और तरह-तरह के अनावश्यक विवादों को जन्म देकर और फिर उन्हें सुलझाने के उपक्रमों में अपना और दूसरों का समय खोता करने लगे !!आदमी सच ही ब्रहमांड की सबसे अजूबी चीज़ है,लेता तो है वह खुदा से होड़ और करता है तमाम किस्म के शैतानियत से भरे और रूह को कंपा देने वाले भद्दे-गंदे-गलीच और बिलकुल ही घटिया कर्म....!!अपनी सहूलियत के लिए सब कुछ कर डालने को उत्सुक एक व्यभिचारी आत्मा...!!और अगर आदमी सचमुच ही ऐसा ही है तो खुद को ऊँचा या विवेकमान मानने की जिद्द क्यों ??खुद को पशु से बेहतर बताने की जिद्द क्यों....??आदमी सच कहूँ तो मसीहा भी बन सकता है,भगवान् भी बन सकता है,वह कुछ भी बन सकता है,उसमें इतनी ताब है,उसमें ऐसी रौशनी भी है....खुद को यदि इतना बेहतर समझने का ऐसा ही उसमें जज्बा है तो दिखाए अपना दम...और बन कर दिखा दे सही मायनों में दुनिया का देवता...हाँ दुनिया इसी की तलाश में है....हाँ दुनिया इसी की आस में है.....!!
Share this article on :

8 टिप्‍पणियां:

Pyaasa Sajal ने कहा…

kaafi pessimistic lag raha hai Sir...main nahi maanta ki haalat itne bure hai...Divedi Saab ki ek rachna "kya niraash huaa jaaye" yaad aa rahi hai...sachmuch niraash hone ke din nahi aaye hai..aadmi aadmi se abhi itta door nai hua hai

www.pyasasajal.blogspot.com

मुकेश कुमार तिवारी ने कहा…

भूतनाथ जी,

अब आपको इस संबोधन की आदत डाल लेनी ही चाहिये, क्योंकि मैं भी आदत से मजबूर आपके असली नाम से वाकिफ हुआ भी पर अंजान बना रहा।

कमाल का लिखते हैं, विचारों में ओज है और चिंतन भी। देवताओं की दुनिया में आदमी देवता बन जाये अपने दम पर? दरअसल आदमी चाहता है कि कोई देवता हो जिसके नाम पर अपने पापों को पुण्य बदल सकें या अपनी अकर्मण्यता का दोष उसके सिर मढ सके।

सादर,

मुकेश कुमार तिवारी

‘नज़र’ ने कहा…

मैं सिर्फ़ शून्य भाव दे सकता हूँ। निर्णय आपको करना है।

ज्योति सिंह ने कहा…

kya kahoon ?bas dhayan se padhti rahi sochti rahi .achchhha likha hai .

bhoootbhooot@gmail.com ने कहा…

प्यारे दोस्तों थोड़ा मुझको प्यार दे ना !!..........मैं आप सबों से बहुत प्यार करता हूँ......!!......सच !!मैं भूत बोल रहा हूँ.....!!
भाईयों और भाईयों.......अभी कुछ दिन पहले मेरा पुराना ब्लॉग "बात पुरानी है"और जी.मेल अकाउंट के पास्वोर्ड को किसी शरारती भाई ने तोड़-मरोड़ दिया है....जिससे मेरे ही अकाउंटों तक मेरी पहुँच असंभव हो गई है....भूतों से आदमी की शरारत वैसे कोई नई बात तो नहीं....मगर ज्यादा शरारत ये कोई अच्छी बात नहीं है....नहीं है ना....!!भईया मेरे कौन हो आप...मेरे बाप.....मेरे बीते हुए दिन लौटा दो....लौटा दो ना.....प्लीज़.....!!

bhoootbhooot@gmail.com ने कहा…

मैं भूत बोल रहा हूँ.....!!
भाईयों और भाईयों.......अभी कुछ दिन पहले मेरा पुराना ब्लॉग "बात पुरानी है"और जी.मेल अकाउंट के पासवर्ड को किसी शरारती भाई ने तोड़-मरोड़ दिया है....जिससे मेरे ही अकाउंटों तक मेरी पहुँच असंभव हो गई है....भूतों से आदमी की शरारत वैसे कोई नई बात तो नहीं....मगर ज्यादा शरारत ये कोई अच्छी बात नहीं है....नहीं है ना....!!भईया मेरे कौन हो आप...मेरे बाप.....मेरे बीते हुए दिन लौटा दो....लौटा दो ना.....प्लीज़.....!!उसका लिंक यह था,जिसमें मैं अब साईन इन नहीं कर पा रहा....अरे कोई है,जो इस भूत की सहायता करे....अरे कोई है....???ye ब्लॉग्गिंग हमें किस मोड़ पे ले आई.....कि कोई तो आए...और हमें बताये कि आगे क्या होगा....??
http://baatpuraanihai.blogspot.com/

ARUNA ने कहा…

waah waah waah...!

Babli ने कहा…

बहुत सुंदर लिखा है आपने!

 
© Copyright 2010-2011 बात पुरानी है !! All Rights Reserved.
Template Design by Sakshatkar.com | Published by Sakshatkartv.com | Powered by Sakshatkar.com.