भारत का संविधान

"हम भारतवासी,गंभीरतापूर्वक यह निश्चय करके कि भारत को सार्वभौमिक,लोकतांत्रिक गणतंत्र बनाना है तथा अपने नागरिकों के लिए------- न्याय--सामाजिक,आर्थिक,तथा राजनैतिक ; स्वतन्त्रता--विचार,अभिव्यक्ति,विश्वास,आस्था,पूजा पद्दति अपनाने की; समानता--स्थिति व अवसर की व इसको सबमें बढ़ाने की; बंधुत्व--व्यक्ति की गरिमा एवं देश की एकता का आश्वासन देने वाला ; सुरक्षित करने के उद्देश्य से आज २६ नवम्बर १९४९ को संविधान-सभा में,इस संविधान को अंगीकृत ,पारित तथा स्वयम को प्रदत्त करते हैं ।"

Visitors

क्या हम सब बदमाश हैं पिंकी....??

मंगलवार, 7 अप्रैल 2009

"पिंकी, क्या मैं बदमाश हूँ.....??"
"नहीं तो,कौन कहता है....??"
"देख ना,मम्मी हर समय मुझे बदमाश-बदमाश कह कर डांटती ही रहती है.....??"
"....!!वो तो मेरी मम्मी भी मुझे दिन-रात यही कहती रहती है,सौ-सौ बार से ज्यादा डांटती होंगी मेरी मम्मी दिन भर में मुझे....!!और पापा भी तो कम नहीं नहीं है....एक तो रात को घर लौटते हैं....ऊपर से मम्मी उन्हें जो भी पढ़ा देती हैं,उसी पर मेरी वाट लगा देते हैं....!!"
"हाँ यार !!मेरा भी यही हाल है...और मेरा-तेरा ही क्यों हमारे सब दोस्तों का भी तो यही हाल है...सोचते हैं कि रात को पापा के आते ही उनको मम्मी के बारे में बताएँगे....कि उन्होंने हमें डांटा...हमें मारा....लेकिन ये पापा लोग भी मम्मी की ही सुनते हैं...बच्चों की बात पर तो विश्वास ही नहीं करते...!!"
"राहुल !!ये पापा लोग ऐसे क्यूँ होते हैं....??देख ना जब भी पापा हमें प्यार करते होते हैं कि रसोई से मम्मी जाती हैं....और कुछ ना कुछ ऐसी बात पापा को बता जाती हैं....कि पापा उल्टा ही हम पर पिल जाते हैं....उन्हें हमारी बात से कोई मतलब ही नहीं होता....!!"
"पता नहीं पिंकी....!!शायद मम्मी लोग कुछ ना कुछ जादू जानती जानती हैं...तभी तो प्यार करते हुए पापा भी अचानक आग-बबूला हो जाते हैं....और हमारी सिट्टी-पिट्टी गुम....!!बस एक ही बात...कि बदमाशी-बदमाशी-बदमाशी....ये बदमाशी ना हुई....भूत हो गई,जो हर समय हमारे पीछे पड़ी रहती है.....!!"
"हाँ राहुल..!!टी.वी देखो तो नहीं....गुडियों से खेलो तो नहीं...लुक्का-छिपी खेलो तो बोलेंगी बैठ कर खेलो...बैठ कर खेलो तो बोलेंगी हल्ला मत करो.....फिर हम क्या करें राहुल.....??"
"अरे यार यही तो मेरी समझ नहीं आता !!मैं अपनी छोटी कार फर्श पर या मेज पर चलता हूँ....तो नहीं....किसी छोटे बच्चे से खेलता हूँ....तो किसी बात पर वो रोने लगे....तो रसोई से ही मुझ पर चिल्लायेंगी...राहुल उसे मत छेडो
...क्या मैं कोई शैतान का बच्चा हूँ....जो सबको छेड़ता रहता हूँ....??"
"अब देखो ना राहुल....कल मैं आँगन वाले अमरुद के पेड़ पर चढ़ गई तो मेरी मम्मी कितना जोर से चीखी थीं....उस वक्त पापा भी तो घर में ही थे....झटपट वो बाहर निकले....तडातड उन्होंने मुझपर थप्पड़ बरसा दिए....कहने लगे लडकियां पेड़ पर नहीं चढ़तीं.....क्यूँ-क्यूँ...लडकियां पेड़ पर क्यूँ नहीं चढ़तीं ??"
"अरे बाप रे !!पेड़ पर चढ़ने के लिए तो अब तक मुझे इतनी मार मिल चुकी कि अब तो मुझे याद भी नहीं कि कितनी.....!!और तू लड़की की बात करती है....मैं तो लड़का हूँ....!!"
"....तो फिर हम करें तो क्या करें राहुल....मैं तो अब बड़ी तंग चुकी हूँ....इन पापा-और मम्मियों से....वैसे मैं पापा से बहुत प्यार करती हूँ....और वो भी मुझे....मम्मी से तो बहुत ही ज्यादा....मगर मेरी कभी नहीं सुनते....जब मम्मी उन्हें पट्टी पढ़ा देती हैं....!!"
"मैं भी यही सोचता हूँ....ये बदमाश शब्द तो हमारा पीछा ही नहीं छोड़ रहा.....!!"
"राहुल...!!ये बदमाश शब्द भला किसने बनाया है....चलो हम उसे मारते हैं.....!!"
"अरे पगली...!!ये तो डिक्शनरी में होता है....कोई बनाता थोडी ना है....!!"
" !!तो फिर बच्चे क्या करें.....??"
"मेरे दिमाग एन एक आईडिया आया है....!!"
"क्या ??...जल्दी बता ना.....!!"
"चल आज हम सब बच्चे शाम को पार्क में एक मीटिंग करते हैं....सब बच्चे तो अपने माँ-बाप से त्रस्त हैं ही...सब के सब हमारी बात जरूर मान लेंगे...और हम अपनी मांग मनवाने के लिए मोहल्ले में जुलुस निकालेंगे....!!
"धत्त !!.........जुलुस निकालेंगे.....सब को ही घर में और जोर की मार पड़ेगी....कान उमेठे जायेंगे....दर्द से बिलबिलाओगे ना.....तब पता चलेगा...हूँ जुलुस निकालेंगे....!!तुम भी ना राहुल....बिल्कुल मूर्खों वाले आईडिये खोज-खोज कर लाते हो....!!"
"तो क्या करें हम....क्या करें.....??"
"हम कुछ नहीं कर सकते....क्योंकि इस मामले में माँ-बापों की बड़ी तगडी तुकबंदी है....लगता है कोई यूनियनबाजी है....इन सके बीच....!!"
"तो क्या.... कोई उपाय नहीं....??"
"नहीं....!!मुझे तो दूर-दूर तक कोई उपाय नहीं दिखायी देता....!!"
"तो क्या ,हम सब इसी तरह मजबूर होकर जियें....??"
"सब ही तो जी रहे हैं....!!"
"तुम तो बिल्कुल डरपोक हो....मैं जाता हूँ किसी और के पास.....उसी से बात करूँगा....देख लेना पापा-मम्मी को तो हमारी बात माननी ही पड़ेगी....!!"
"हा-हा-हा-हा-हा-हा....!!तो जाओ ना....आज तुम सब बच्चों को मिला कर दिखा ही दो....जोर से चिल्ला कर कहों ना...दुनिया के बच्चों एक हों....हा-हा-हा-हा-हा-हा.....!!"
"अच्छा-अच्छा ज्यादा हंस कर मत दिखाओ....आज मैं तुम्हे दिखा कर ही रहूँगा....!!"
"तो जाओ ना.....यहाँ खड़े बात क्या बना रहे हो....!!"
"जा रहा हूँ....जा रहा हूँ....!!" और राहुल चला जाता है मोहल्ले के सब बच्चों को मिलाने....एक क्रान्ति का सूत्रपात करने....!!
Share this article on :

4 टिप्‍पणियां:

नरेश सिह राठौङ ने कहा…

बाल मन कि व्यथा आपके शब्दों मे अच्छी लगी ।

महावीर ने कहा…

हम लोग बच्चे तो पैदा कर देते हैं लेकिन बच्चों की मनोभावनाओं को मनोवैज्ञानिक रूप से नहीं
आंकते। बच्चे बहुत सुग्राही, कोमल, भावुक और साथ ही तुनकमिज़ाज होते हैं। ऐसी बेकार की
शब्दावली उनके मस्तिष्क में घर कर लेती है जो आगे जीवन में कभी कभी असर दिखाने लगती
हैं।
मैं तो यहां तक कहता हूं कि बच्चा होने से पहले 'बाल मनोविज्ञान' का थोड़ा सा अध्ययन लाभकारी होगा।
आपका यह लेख बहुत बातों को स्पष्ट करता है। सुंदर अभिव्यक्ति है।

Mired Mirage ने कहा…

बहुत अच्छा लिखा है। हम बच्चों के माता पिता बिना किसी मानसिक तैयारी के बन जाते हैं। केवल शब्द बदल जाते हैं भावार्थ वही रहता है, गन्दा बच्चा, बैड गर्ल आदि। वैसे मेरे घर में तो नियम था कि पिता क्योंकि बहुत कम घर में रहते थे अतः बच्चों को केवल प्यार करेंगे। डाँटने का काम मेरा था क्योंकि मेरे पास मनाने का समय भी तो था।
घुघूती बासूती

अल्पना वर्मा ने कहा…

बच्चों के मन की बातें आप ने बखूबी लिख दि.अपने माँ-पिता से त्रस्त बच्चे अगर कभी ऐसा आन्दोलन शुरू करदें तो कोई अचम्भा नहीं होगा.
रूटीन से अलग हट के एक सोच आज के लेख में.

 
© Copyright 2010-2011 बात पुरानी है !! All Rights Reserved.
Template Design by Sakshatkar.com | Published by Sakshatkartv.com | Powered by Sakshatkar.com.